सेनानी करो प्रयाण अभय; भावी इतिहास तुम्हारा है..

ये नखत अमां के बुझते; सारा आकाश तुम्हारा है….- राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर 

उपरोक्त दो पंक्तियों में मेरा जीवन समाया हुआ है. सत्य के पथ पर चल भयमुक्त, निष्पक्ष एवं निश्छल राजनीति स्थापित करना मेरा उद्देश्य. राजनीति को धर्म, जाति, मतभेद से मुक्त करना एवं विकास, मुद्दों, सेवा के ऊपर केन्द्रित करने के लक्ष्य के साथ मैं आगे बढ़ रहा हूँ. “सत्यमेव जयति नानृतम” के मूल वचन के साथ मैंने अपने संघर्ष की शुरुआत की है एवं सत्य व न्याय के साथ अपनी प्रतिबद्धता जताते हुए अपने राजनैतिक जीवन का प्रारंभ किया है. 15 अगस्त 1947 से अब तक भारत कुछ मूल समस्याएं जैसे गरीबी, भुखमरी, बेरोजगारी, असमान विकास से जूझ रहा है. हालाँकि भारत जहाँ से प्रारंभ हुआ था; उससे बहुत आगे जा चुका है; पर अभी बहुत लम्बी लड़ाई बाकि है. इस समय यह संघर्ष भ्रष्टाचार, अशिक्षा के कारण बहुत कमजोर है. मेरा प्रयास है कि मैं भारत के लिए एक नवयुवाशक्ति बनाऊँ जो भारत को इन मुद्दों से बाहर निकाल प्रग्रति पथ पर डाले.

-रविन्द्र सिंह ढुल

I do believe in inclusive politics, I want to work on issues unless the same are not eliminated so that we can make a better India which can compete with external forces with more confidence and pace in this developing work.

-Ravinder Singh Dhull


Latest Articles

November 20, 2017

सुनिए मुख्यमंत्री जी!

दिनांक: 19.11.2017 माननीय मुख्यमंत्री, हरियाणा सरकार. विषय: हरियाणा की सम्प्रभुता एवं एकता को सम्भावित खतरे बारे श्रीमान जी मुझे अत्यंत दुःख एवं पीड़ा के साथ आपको यह पत्र लिखना पड़ रहा है कि एक बार फिर से हरियाणा की एकता एवं चरित्र खतरे में है लेकिन इस बार भी आपका मूक दर्शक होना मेरे मन में पीड़ा पैदा कर रहा ...Read Post
November 16, 2017

अलाउद्दीन खिलजी एक खोज

मेरे आदरणीय मित्र अमरेश मिश्र जो पत्रकार हैं और बेहद संजीदा मुद्दों पर पूरा खोज खबर के साथ लिखते हैं; वे आज कल अलऊदीन खिलजी और पद्मावती का इतिहास खोजने में लगे हैं. उनके रिसर्च में बेहद गम्भीर तथ्य सामने आये हैं. उन्हें यों का यों उनकी भाषा में लिख रहा हूँ. वे अपनी रिसर्च जारी रखे हुए हैं और …

Read Post
October 20, 2017

संघ, पटाखे और मूर्खता

सुप्रीम कोर्ट ने कुछ ही दिन पहले पटाखों की बिक्री पर बैन लगाया था. इस बैन पर तरह तरह की प्रतिक्रियाएं आई उनमें से सबसे प्रमुख प्रतिक्रियाएं एक ऐसे वर्ग की आयीं जिसने यह दिखाने की कोशिश की कि सुप्रीमकोर्ट का पटाखों पर बैन हिन्दू धर्म के विरुद्ध है और सुप्रीमकोर्ट को यह बैन मुस्लिम धर्म के विरुद्ध भी लगाना …

Read Post
September 2, 2017

बाबा गुरमीत राम रहीम गिरफ्तारी; कुछ सवाल

आम तौर पर चुप्पी साधे रहने वाला लो प्रोफाइल लेकिन साफ़ सुथरा शहर पंचकुला आज कल गलत कारणों से चर्चा में है. दरअसल डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम इंसा की पंचकुला सीबीआई कोर्ट में पेशी 25 अगस्त के लिए निर्धारित थी. पन्द्रह वर्ष पुराने साध्वी यौन शोषण मामले में बहस पूरी होने के बाद यहाँ मामले का …

Read Post
June 24, 2017

तुम्हारे धर्म की क्षय हो

पिछले दो दिनों में दो ऐसी खबरें आईं जिन्होंने अंतर्मन को झझकोर कर रख दिया है. एक तरफ कश्मीर में दरिंदों की भीड़ ने मोहम्मद अयूब पंडित नामक एक जांबाज DSP को पीट पीट कर मार दिया; तो दूसरी तरफ हरियाणा के बल्लभगढ़ के रहने वाले एक 17 वर्षीय युवा मुस्लिम को भीड़ ने पीट पीट कर मार दिया. थोडा …

Read Post
June 20, 2017

किस्मत महरबान तो गधा पहलवान

अनपढ़ सरकार के अनपढ़ पुरौधा एक हिंदी की कहावत है कि गर बन्दर के हाथ में उस्तरा पकड़ा दो तो वो न जाने क्या क्या काट देता है. ये कहावत हरयाणा की भाजपा सरकार पर पूर्णतया लागू होती है. ऐसा नहीं है कि मुझे यह कहने का मौका पहली बार मिला है; मैंने ये पहले भी कहा है; बार बार …

Read Post
May 19, 2017

भारत की वेटलैंड यानी दलदल

आज दिन में एक खबर आई कि हरयाणा के मुख्यमंत्री भिंडावास को एशिया की सबसे बड़ी लेक बता रहे हैं और कह रहे हैं कि उसे रखरखाव और देखभाल की आवश्यकता है. मुख्यमंत्री के ऐसे कहने से मुझे बहुत हैरानी हुई क्योंकि न तो भिंडावास झील है और कम से कम एशिया की सबसे बड़ी तो बिल्कुल भी नहीं. अतः …

Read Post
April 8, 2017

चौधरी देवी लाल जी द्वारा दीन बन्धु सर छोटू राम को अर्पित की गयी विनम्र श्रद्धांजलि

चौधरी देवी लाल जी द्वारा दीन बन्धु सर छोटू राम को अर्पित की गयी विनम्र श्रद्धांजलि दिनांक 12, फरवरी 1978. हरयाणा वैदिक काल से ही सामाजिक, आर्थिक और धार्मिक क्रांति के सूत्रधार युगपुरुषों को जन्म देता रहा है. इस ने हर युग में ऐसे महान नर-रत्न पैदा किये, जिन्होंने न सिर्फ इस प्रान्त का सर ऊंचा किया वरन समूचे देश …

Read Post
February 24, 2017

मुरथल घटनाक्रम का इतिहास

हर एक व्यक्ति के जीवन में ऐसा समय आता है जब वह करवट लेता है और एक ऐसे कार्य में लग जाता है; ऐसा ही एक मामला था कथित मुरथल बलात्कार जिसने मुझे अंदर तक हिला कर रख दिया. इसलिए नहीं कि मैं मानता था कि महिलाओं के साथ बदसलूकी हुई है; अपितु इसलिए कि मेरा अपनी सम्पूर्ण निष्ठा से …

Read Post
February 18, 2017

किसान का धर्म

“हर खेत को पानी, हर हाथ को काम, हर तन को कपड़ा, हर सर को मकान, हर पेट को रोटी, बाकि बात खोटी” जननायक चौधरी देवी लाल जी के ये अमर वाक्य भारत में राजधर्म की असली मिसाल और पहचान है. आजादी के बाद भारत ने स्वयम को धर्मनिरपेक्ष, पंथनिरपेक्ष राष्ट्र के रूप में स्थापित किया. इसके बहुत से कारणों …

Read Post
January 30, 2017

मैं और मेरे गांधी

हमेशा की तरह आज महात्मा गांधी जी के शहीदी दिवस पर गांधी जी बनाम गोडसे अथवा गांधी जी बनाम अन्य की बहस चली है. इस बहस के दौरान मैं अपने अंदर गांधी को ढूँढने चला. गांधी जी से मेरा क्या रिश्ता है बस यही आज मेरा लेख है. राजनैतिक रूप से बेहद सक्रिय परिवार से सम्बन्ध रखने के कारण मैं …

Read Post
January 29, 2017

किसान एवं कमेरों की एकता समय की जरूरत

भारत कृषि प्रधान देश है. इस देश की लगभग 70% आबादी ग्रामीण क्षेत्र में ही बसती है. आजादी की लड़ाई से आज तक हर बड़े सामाजिक नेता ने किसान और ग्रामीण क्षेत्र की बात की है. रहबरे आजम सर छोटू राम से लेकर चौधरी देवी लाल जी, महात्मा गांधी से लेकर चौधरी चरण सिंह तक हर एक बड़े नेता का …

Read Post
January 23, 2017

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस का आगमन

मेरे दादा चौधरी दल सिंह जी को नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के लिए भर्ती अधिकारी के रूप में जर्मनी में शामिल होने का मौका मिला। इस दौरान कुछ अभूतपूर्व घटना क्रम हुआ जिसमें नेताजी को जर्मनी में जंगी कैम्प में बोलने से रोकने की कोशिश की गयी। आज नेता जी की जयंती पर मैं वह घटना क्रम आप सब के …

Read Post
December 25, 2016

वीर शिरोमणि महाराजा सूरजमल के बलिदान दिवस पर विशेष

महाराजा सूरजमल के बलिदान दिवस पर उनके जीवन वृतांत के बारे में छोटा सा लेख

Read Post
December 23, 2016

तैमूर लंग और दादावीर हरवीर गुलिया

तैमूर को मुद्दा बना नोटबंदी से भाग रहे भाजपा के लोग क्या दादावीर हरवीर गुलिया के बारे में जानते हैं? पढ़िए तैमूर के आतंक और सर्वखाप सेना की लड़ाई की कथा.

Read Post
December 15, 2016

राजीव लोंगोवाल समझौता और हरियाणा के हित!

राजीव लोंगोवाल समझौते पर चौधरी देवी लाल जी के स्टैंड को समझे बिना हम विरोधियों के विरोध का पोस्टमार्टम नहीं कर सकते. इस लेख में ऐसी ही कुछ बातें मैंने लिखी हैं. पढिये कि समझौते का विरोध क्यों और कैसे हुआ था?

Read Post
December 2, 2016

या तो काला धन है नहीं या विमुद्रीकरण फेल!

क्या सरकार विमुद्रीकरण में बुरी तरह परास्त हो गयी है? पढिये इस छोटे से लेख में.

Read Post
December 2, 2016

बिना कैश बनती कैशलेस इकोनोमी

क्या भारत कैशलेस इकॉनमी के लिए सचमुच तैयार है या यह भी प्रधानमन्त्री का नया जुमला है! पढिये इस छोटे से लेख में.

Read Post
November 27, 2016

भारतीय भाषाओँ का विनाश और इंग्लिश

लार्ड मैकाले ने भारत में ब्रिटिश शिक्षा पद्दति को जब सख्ती से लागू किया था तो उसने ब्रिटिश सरकार को यह विश्वास दिलवाया था कि भारत में अंग्रेजी और अंग्रेजियत का प्रचार एवं प्रसार यदि किया गया तो भारत की संस्कृति धीरे धीरे समाप्त हो जाएगी और भारत की आने वाली पीढियां एक ऐसे समय में पैदा होंगी जब वे …

Read Post
November 26, 2016

नोटबंदी कोई सीक्रेट नहीं था, बड़ी बड़ी कम्पनियों के मालिकों को पहले से पता था

आज मैं शत प्रतिशत विश्वास के साथ कह सकता हूँ कि निजी क्षेत्र के व्यापारियों को पहले से पता था कि विमुद्रीकरण होने वाला है. पढ़िए इस लेख में.

Read Post
November 24, 2016

सर्वे/ मोदी एप का सर्वे कहाँ तक पंहुचा

प्रधानमन्त्री के सर्वे के अंदर कौन पार्टिसिपेट नहीं कर पाया? अपने आप्शन सेलेक्ट करें! किसान और ग्रामीण जनसंख्या दैनिक भत्ते पर कार्य करने वाले मजदूर  BPL परिवार  निजी सेक्टर में काम करने वाले नागरिक और शहरी पोपुलेशन [dyamar_poll id=”2″]

Read Post
November 24, 2016

मोदी एप का सेलेक्टिव सर्वे, कहाँ तक सच्चाई के आस पास?

नोटबंदी पर विपक्ष के लगातार हंगामे के बाद भी संसद में न बोल कर प्रधानमन्त्री ने मोदी एप पर आम जनता से सर्वे माँगा है. प्रचारित किया गया है कि अब तक 90% लोग पक्ष में हैं. सबसे पहले हम उस एप में मौजूद प्रश्नों के ऊपर मेरे उत्तर देता हूँ: मोदी जी का सवाल न 1-आपको लगता है हमारे …

Read Post
November 24, 2016

खुदी को कर बुलंद

दीनबन्धू रहबरे आजम सर छोटू राम जी की 135वीं जयंती पर मेरा हार्दिक नमन!

Read Post
November 19, 2016

इस राज में लोकलाज है ही नहीं

क्या सरकार नोटबंदी के बाद लोकलाज दिखा रही है? क्या हैं नोटबंदी के साइड इफेक्ट्स और फिलहाल स्थिति क्या बनी हुई है; इसपर नजर डालता मेरा छोटा सा लेख

Read Post
November 18, 2016

SYL पर 2005 से 2014 के बीच पूर्व कांग्रेस सरकार का स्टैंड

वर्तमान कांग्रेस का हुड्डा ग्रुप इस समय SYL मुद्दे पर हरियाणा में संदेश देने की कोशिश कर रहा है कि उनका SYL मामले में अभूतपूर्व योगदान रहा है. पर सच्चाई क्या है यह समझने की कोशिश करते हैं.

Read Post